शक्ति की उपासना का पर्व है नवरात्र

मां दुर्गा के नौ रूपों का ध्यान सारी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाला होता है। दुर्गा पूजा के दौरान माता के इन्हीं रूपों की भक्ति-भाव से पूजा-अर्चना की जाती है:

1. शैलपुत्री

पहले स्वरूप में देवी मां पर्वतराज हिमालय की पुत्री पार्वती के रूप में विराजमान हैं। नंदी नामक वृषभ पर सवार ' शैलपुत्री ' के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प है। शैलराज हिमालय की कन्या होने के कारण इन्हें शैलपुत्री कहा गया। इन्हें समस्त वन्य जीव-जंतुओं की रक्षक माना जाता है। दुर्गम स्थलों पर स्थित बस्तियों में सबसे पहले शैलपुत्री के मंदिर की स्थापना इसीलिए की जाती है कि वह स्थान सुरक्षित रह सके।

2. ब्रह्माचारिणी

दूसरी दुर्गा ' ब्रह्माचारिणी ' को समस्त विद्याओं की ज्ञाता माना गया है। इनकी आराधना से अनंत फल की प्राप्ति और तप , त्याग , वैराग्य , सदाचार , संयम जैसे गुणों की वृद्धि होती है। ' ब्रह्माचारिणी ' का अर्थ हुआ , तप की चारिणी यानी तप का आचरण करने वाली। यह स्वरूप श्वेत वस्त्र पहने दाएं हाथ में अष्टदल की माला और बाएं हाथ में कमंडल लिए हुए सुशोभित है। कहा जाता है कि देवी ब्रह्माचारिणी अपने पूर्व जन्म में पार्वती स्वरूप में थीं। वह भगवान शिव को पाने के लिए 1000 साल तक सिर्फ फल खाकर रहीं और 3000 साल तक शिव की तपस्या सिर्फ पेड़ों से गिरी पत्तियां खाकर की। कड़ी तपस्या के कारण उन्हें ब्रह्माचारिणी कहा गया।

3. चंद्रघंटा

शक्ति के रूप में विराजमान मां चंद्रघंटा मस्तक पर घंटे के आकार के चंद्रमा को धारण किए हुए हैं। देवी का यह तीसरा स्वरूप भक्तों का कल्याण करता है। इन्हें ज्ञान की देवी भी माना गया है। बाघ पर सवार मां चंद्रघंटा के चारों तरफ अद्भुत तेज दिखाई है। इनके शरीर का रंग स्वर्ण के समान चमकीला है। यह तीन नेत्रों और दस हाथों वाली हैं। इनके दस हाथों में कमल , धनुष-बाण , कमंडल , तलवार , त्रिशूल और गदा जैसे अस्त्र-शस्त्र हैं। कंठ में सफेद पुष्पों की माला और शीर्ष पर रत्नजडि़त मुकुट विराजमान हैं। यह साधकों को चिरायु , आरोग्य , सुखी और संपन्न होने का वरदान देती हैं। कहा जाता है कि यह हर समय दुष्टों के संहार के लिए तैयार रहती हैं और युद्घ से पहले उनके घंटे की आवाज ही राक्षसों को भयभीत करने के लिए काफी होती है।

4. कुष्मांडा

चौथे स्वरूप में देवी कुष्मांडा भक्तों को रोग , शोक और विनाश से मुक्त करके आयु , यश , बल और बुद्धि प्रदान करती हैं। यह बाघ की सवारी करती हुईं अष्टभुजाधारी , मस्तक पर रत्नजड़ित स्वर्ण मुकुट पहने उज्जवल स्वरूप वाली दुर्गा हैं। इन्होंने अपने हाथों में कमंडल , कलश , कमल , सुदर्शन चक्र , गदा , धनुष , बाण और अक्षमाला धारण किए हैं। अपनी मंद मुस्कान हंसी से ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इनका नाम कुष्मांडा पड़ा। कहा जाता है कि जब दुनिया नहीं थी , तो चारों तरफ सिर्फ अंधकार था। ऐसे में देवी ने अपनी हल्की-सी हंसी से ब्रह्मांड की उत्पत्ति की। वह सूरज के घेरे में रहती हैं। सिर्फ उन्हीं के अंदर इतनी शक्ति है , जो सूरज की तपिश को सहन कर सकें। मान्यता है कि वह ही जीवन की शक्ति प्रदान करती हैं।

5. स्कन्दमाता

भगवान स्कन्द (कार्तिकेय) की माता होने के कारण देवी के इस पांचवें स्वरूप को स्कन्दमाता के नाम से जाना जाता है। इस रूप में वह कमल के आसन पर विराजमान हैं , इसलिए इन्हें पद्मासन देवी भी कहा जाता है। इनका वाहन भी सिंह है। इन्हें कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री कहा जाता है। यह दोनों हाथों में कमलदल लिए हुए और एक हाथ से अपनी गोद में ब्रह्मस्वरूप सनतकुमार को थामे हुए हैं। स्कन्द माता की गोद में उन्हीं का सूक्ष्म रूप छह सिर वाली देवी का है। अत: इनकी पूजा-अर्चना में मिट्टी की छह मूर्तियां सजाना जरूरी माना गया हैं।

6. कात्यायनी

यह दुर्गा देवताओं और ऋषियों के कार्यों को सिद्ध करने लिए महर्षि कात्यायन के आश्रम में प्रकट हुईं। उनकी पुत्री होने के कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ा। देवी कात्यायनी दानवों व पापी जीवियों का नाश करने वाली हैं। ये ऋषि-मुनियों को कष्ट देने वाले दानवों को अपने तेज से ही नष्ट कर देती थीं। यह सिंह पर सवार , चार भुजाओं वाली और सुसज्जित आभा मंडल वाली देवी हैं। इनके बाएं हाथ में कमल और तलवार व दाएं हाथ में स्वस्तिक व आशीर्वाद की मुदा है।

7. कालरात्रि

देवी का सातवां स्वरूप देखने में भयानक अवश्य है , लेकिन यह सदैव शुभ फल देने वाला होता है। इन्हें ' शुभंकरी ' भी कहा जाता है। ' कालरात्रि ' केवल शत्रु एवं दुष्टों का संहार करती हैं। यह काले रंग-रूप वाली , केशों को फैलाकर रखने वाली और चार भुजाओं वाली दुर्गा हैं। यह वर्ण और वेश में अर्द्धनारीश्वर शिव की तांडव मुदा में नजर आती हैं। इनकी आंखों से अग्नि की वर्षा होती है। एक हाथ से शत्रुओं की गर्दन पकड़कर दूसरे हाथ में खड्ग-तलवार से उनका नाश करने वाली कालरात्रि विकट रूप में विराजमान हैं। इनकी सवारी गधर्व यानि गधा है , जो समस्त जीव-जंतुओं में सबसे अधिक परिश्रमी माना गया है।

8. महागौरी

नवरात्रों के आठवें दिन महागौरी की उपासना की जाती है। इससे सभी पाप धुल जाते हैं। देवी ने कठिन तपस्या करके गौर वर्ण प्राप्त किया था। उत्पत्ति के समय आठ वर्ष की आयु की होने के कारण नवरात्र के आठवें दिन इनकी पूजा की जाती है। भक्तों के लिए यह अन्नपूर्णा स्वरूप हैं , इसलिए अष्टमी के दिन कन्याओं के पूजन का विधान है। यह धन , वैभव और सुख-शांति की अधिष्ठात्री देवी हैं। इनका स्वरूप उज्जवल , कोमल , श्वेतवर्णा तथा श्वेत वस्त्रधारी है। यह एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे में डमरू लिए हुए हैं। गायन और संगीत से प्रसन्न होने वाली ' महागौरी ' सफेद वृषभ यानि बैल पर सवार हैं।

9. सिद्धिदात्री

नवीं शक्ति ' सिद्धिदात्री ' सभी सिद्धियों को प्रदान करने वाली हैं। इनकी उपासना से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। कमल के आसन पर विराजमान देवी हाथों में कमल , शंख , गदा , सुदर्शन चक्र धारण किए हुए हैं। भक्त इनकी पूजा से यश , बल और धन की प्राप्ति करते हैं। सिद्धिदात्री की पूजा के लिए नवाहन का प्रसाद , नवरस युक्त भोजन तथा नौ प्रकार के फल-फूल आदि का अर्पण करना चाहिए। इस तरह नवरात्र का समापन करने वाले भक्तों को धर्म , अर्थ , काम और मोक्ष की प्राप्ति होती है। सिद्धिदात्री देवी सरस्वती का भी स्वरूप हैं , जो श्वेत वस्त्रालंकार से युक्त महाज्ञान और मधुर स्वर से भक्तों को सम्मोहित करती हैं।

Comments

- Mar 7, 2017

Howdy! <a href=http://cialisbuy.win/#0>buy tadalafil</a> great internet site.

- Mar 7, 2017

Howdy! <a href=http://viagrafree-trial.win/#4>viagra com free trial</a> beneficial web page.

- Mar 7, 2017

Hi there! <a href=http://cialisbuy.win/#9>purchase tadalafil</a> very good site.

- Mar 7, 2017

Hi there! <a href=http://viagrafree-trial.win/#4>viagra com free offer</a> great web site.

- Mar 7, 2017

Hi there! <a href=http://viagrafree-trial.win/#9>viagra trial</a> beneficial web page.

- Mar 8, 2017

Howdy! <a href=http://levitrafree-trial.win/#levitra-com-free-trial>levitra com free offer</a> great web site.

- Mar 8, 2017

Hello! <a href=http://viagrafree-trial.win/#4>free viagra samples</a> very good internet site.

- Mar 8, 2017

Hi! <a href=http://cialisbuy.win/#9>buy cialis no rx</a> excellent website.

- Mar 8, 2017

Howdy! <a href=http://provigilmodafinil.top/#8>modafinil</a> beneficial site.

- Mar 8, 2017

Howdy! <a href=http://provigilmodafinil.top/#5>buy provigil cheap</a> excellent web page.

- Mar 9, 2017

Hello there! <a href=http://valtrex-valacyclovir.bid/#buy-valacyclovir-online>order valtrex</a> excellent website.

- Mar 9, 2017

Hello there! <a href=http://indianonlinepharmacy.gdn/#7>cvs pharmacy online</a> beneficial internet site.

- Mar 9, 2017

Hello there! <a href=http://erectiledysfunction-pills.ru/#9>ed pills</a> great web page.

- Mar 9, 2017

Hello! <a href=http://indianonlinepharmacy.gdn/#0>online pharmacy without prescription</a> very good web page.

- Mar 9, 2017

http://cialiswithoutadoctors-prescription.org/ cialis without a doctor's prescription

- Mar 9, 2017

Hello there! <a href=http://valtrex-valacyclovir.bid/#order-valacyclovir>buy valtrex</a> very good web site.

- Mar 9, 2017

Hello! <a href=http://erectiledysfunction-pills.ru/#8>buy ed meds online</a> good website.

- Mar 10, 2017

Hi there! <a href=http://valtrex-valacyclovir.bid/#buy-valtrex>buy valtrex 100 mg</a> great website.

- Mar 10, 2017

Howdy! <a href=http://indianonlinepharmacy.gdn/#8>pharmacy tech programs online</a> very good site.

- Mar 10, 2017

Howdy! <a href=http://erectiledysfunction-pills.ru/#1>buy ed pills</a> very good internet site.

- Mar 10, 2017

Hello there! <a href=http://indianonlinepharmacy.gdn/#8>online canadian pharmacies</a> beneficial internet site.

- Mar 10, 2017

Howdy! <a href=http://erectiledysfunction-pills.ru/#5>ed meds</a> good internet site.

- Mar 10, 2017

Hi there! <a href=http://valtrex-valacyclovir.bid/#valtrex-online>buy valtrex online without prescription</a> excellent web site.

- Mar 10, 2017

Howdy! <a href=http://ventolin.top/>buy ventolin no prescription</a> excellent website.

- Mar 10, 2017

Hello! <a href=http://indianonlinepharmacy.gdn/#0>viagra online canada pharmacy</a> excellent internet site.

- Mar 10, 2017

<a href=http://bestmattressreviewsandratings.com/>best side sleeper pillow reviews</a> - Various other assessments point out the sides are sloped downward which holds true. We have certainly not had any sort of concerns with spinning off therefore. - <a href="http://bestmattressreviewsandratings.com/">keetsa mattress reviews</a> and <a href="http://innovasaber.com/">tempur pedic pillow review</a>.

- Mar 10, 2017

Hello! <a href=http://erectiledysfunction-pills.ru/#3>ed meds</a> beneficial site.

- Mar 10, 2017

Hello! <a href=http://ventolin.top/>buy ventolin</a> excellent web page.


post a comment

Post Comment

*
*


Visual CAPTCHA

*
Code is not case-sensitive
*

We welcome comments on this article, provided they have something to contribute. Please note that all links will be created using the nofollow attribute. This is a spam free zone. HTML is stripped from comments, but BBCode is allowed.
Maavindhayvasini

Recent Articles

  • October 14, 2015

    1)Maa Shailputri 2)Maa Brahmacharini 3)Maa Chandraghanta 4)Maa Kushmanda 5)Maa...

    Read More
  • October 14, 2015

    दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू...

    Read More
  • October 13, 2015

    नवरात्री पूजन व कथा

    Read More
Maavindhayvasini